तुलसी पत्ते का उपयोग क्या है?

तुलसी पत्ते का उपयोग क्या है?

तुलसी जिसे मीठी तुलसी भी कहा जाता है।पुदीना परिवार लैमियासी की वार्षिक जड़ी बूटीइसकी सुगंधित पत्तियों के लिए उगाई जाती है। तुलसी संभवतः भारत की मूल निवासी है और व्यापक रूप से एक रसोई जड़ी बूटी के रूप में उगाई जाती है। मांस, मछली, सलाद और सॉस के स्वाद के लिए पत्तियों को ताजा या सुखाया जाता है।तुलसी की चाय एक उत्तेजक है।

तुलसी के पत्ते चमकदार और अंडाकार आकार के होते हैं, जिनमें चिकने या थोड़े दांतेदार किनारे होते हैं जो आमतौर पर थोड़ा कप होते हैं। पत्तियों को वर्गाकार तनों के साथ विपरीत रूप से व्यवस्थित किया जाता है। छोटे फूल टर्मिनल समूहों में पैदा होते हैं और सफेद से मैजेंटा तक रंग में होते हैं। यह पौधा अत्यधिक ठंढ के प्रति संवेदनशील होता है और गर्म जलवायु में सबसे अच्छा बढ़ता है। तुलसी फुसैरियम विल्ट, ब्लाइट और डाउनी फफूंदी के लिए अतिसंवेदनशील है, खासकर जब आर्द्र परिस्थितियों में उगाया जाता है।

वाणिज्य में कई किस्मों का उपयोग किया जाता है, जिनमें छोटी पत्ती वाली आम तुलसी, बड़ी पत्ती वाली इतालवी तुलसी और बड़ी लेट्यूस-लीफ तुलसी शामिल हैं। थाई बेसिल और संबंधित पवित्र तुलसी और नींबू तुलसी एशियाई व्यंजनों में आम हैं। सूखे बड़े पत्तों वाली किस्मों में एक सुगंधित सुगंध होती है जो सौंफ की याद ताजा करती है और एक गर्म, मीठा, सुगंधित, हल्का तीखा स्वाद होता है। आम तुलसी के सूखे पत्ते कम सुगंधित और स्वाद में अधिक तीखे होते हैं।

तुलसी की किस्में ज्यादातर जो भारतीय उपमहाद्वीप में पाई जाती हैं निम्नलिखित है –

  1. राम तुलसी
  2. कृष्णा तुलसी
  3. अमृता तुलसी
  4. वाना तुलसी:
  5. तुलसी के लाभ (पवित्र तुलसी)
  6. राम तुलसी
  7. नींबू/नींबू तुलसी
  8. यूनानी तुलसी
  9. थाई तुलसी
  10. दालचीनी तुलसी या मैक्सिकन तुलसी
  11. लेटस लीफ तुलसी
  12. क्रिसमस तुलसी
  13. नेपोलेटानो तुलसी
  14. जेनोविस तुलसी
  15. ग्रीष्मकालीन तुलसी
  16. कार्डिनल तुलसी
  17. अरारत तुलसी
  18. बीज से उगाएं तुलसी

तुलसी के फायदे (Tulsi ke Fayde in Hindi)

तुलसी के पौधे में कई औषधीय गुण मौजूद है। आयुर्वेद में भी तुलसी के पौधे का बड़ी मात्रा में उपयोग किया जाता है। तुलसी के पौधों के कई उपयोग और फायदे है (Benefits of Tulsi) जिससे हमें कई रोगों में लड़ने में सहायता मिलती है। लोग इसका उपयोग अपनी जरुरत के हिसाब से पूजा-पाठ,सर्दी-खासी,गले में खरास आदि में बड़ी मात्रा में करते है। मुख्यरुप से अगर देखा जाएं तो तुलसी का इस्तेमाल किसी भी उम्र का इंसान अगर उपयोग कर रहा है तो इसका कोई साइड इफ़ेक्ट (Side Effect)नही होता है। तुलसी में विटामिन A,विटामिन Cऔर विटामिनKपाया जाता है।इसके साथ-साथ इसमें कैल्शियम,मैग्नीसियम,फासफोरस और आयरन तत्वों से युक्त होता है तुलसी। आइएं हम एक-एक करके विस्तार से आपको बताते है तुलसी के फायदे के बारे में….

  1. डायबिटीज में फायदेमंद है तुलसी की पत्तियां (Diabetes Me Fayedemand Hai Tulsi Ki Patiya)- डायबिटीज में तुलसी के पत्तें खाने से काफी फायदा मिल सकता है। क्योंकि इसमें एंटी-आक्सीडेंट प्रापर्टीज मिलती है, जिसकी वजह से इन्सुलिन सेंसटिविटीबढ़ती है और ब्लड सुगर कम होने से डायबिटीज को कंट्रोल करना काफी आसान हो जाता है। डायबिटीज के मरिज अगर प्रतिदिन खाली पेट तुलसी के4-5 पत्तों का सेवन करें तो ऐसा करने से डायबिटीज के मरिज को काफीहद तक आराम मिलता सकता है।
  2. हार्ट को सुरक्षित रखने में लाभकारी है तुलसी की पत्तियां (Basil Leaves are Beneficial in Protecting the Heart- अगर आप तुलसी का सेवन करते है तो यह आपके कोलेस्ट्राल को कंट्रोल में रखते है।जिससे हार्ट भी सुरक्षित रहता है।रिसर्च मे तो यहां तक कहा गया है कि रोज तुलसी के पत्ते के सेवन से हार्ट से जुड़ी कोई परेशानियां ही नही होगी। तुलसी में विटामिन सी, फास्फोरस, कैल्शियम होता है जो व्यक्ति को हार्ट अटैक, हाइपरटेंशन, हार्ट फेलियर और दिल की अन्य बीमारियों से बचाते है।
  3. स्मोकिंग छुड़ाने में भी लाभकारी है तुलसी की पतियां (Basil Leaves are Also Beneficial in Quitting Smoking- नशा एक ऐसी बीमारी जिसका सेवन करने के बाद इंसान उसका आदि बन जाता है। फिर वह इसे छोड़ना भीचाहे तो उसे इसमें असफलता ही हाथ लगती है। लेकिन आपको घबराने की जरुरत नही है,अगर आप वास्तव में इसे छुटकारा पाना चाहते है तो आपको तुलसी के पत्ते से काफी राहत मिल सकती है। अब आप सोचेंगे कैसे? इसका मतलब बहुत साधारण है ,अगर आप सिगरेट पीते है तो छोड़ दीजिए। फिर जब आपको सिगरेट पीने का मन करे तो उसके बदले में तुलसी के पत्ते को खां लिजिएं। क्योंकि तुलसी के पत्ते में एंटी-स्ट्रेस भी होते है। इसके सेवन से आप सिगरेट की कमी से होने वाले स्ट्रेस से खुद को बचा सकते है।
  4. कान के दर्द में भी लाभकारी है तुलसी की पतियां (Basil Leaves Are Also Beneficial in Ear Pain)- अगर आप कान के दर्द से परेशान है तो इससे आराम के लिए आप तुलसी के पत्ते का इस्तेमाल कर सकते है। सबसे पहले आप तुलसी के पत्ते को सरसों तेल मे भून लीजिएं और फिर इसमें लहसुन का रस मिलाकर कान में डाल लीजिए। ध्यान इस बात का रखना है आपको की1-2 बूंदहीकानमें डालना है। ऐसा करने से आपको2-3 दिन में राहत मिल सकती है।
  5. खांसी के लिए में भी लाभकारी है तुलसी की पतियां (Basil Leaves are Also Beneficial for Cough)- आमतौर पर अगर आपको खांसी हो जाती है तो आप सिरप का इस्तेमाल करते है। लेकिन क्या आपको पता है कि घरेलू नुस्खे से भी अपनी खांसी को ठीक कर सकते है। उसके लिए आपको कही घर से दूर जाने की भी जरुरत नही है, वह आपके घर में ही मौजूद है, जिसका नाम है‘तुलसी ’जी हां आपने सही पढ़ा,आठ तुलसी के पत्ते और 5 लौंग को एक कप पानी में डाले और 10 मिनट के लिए उसे उबाल लें। थोड़ा अगर आप इसे स्वादयुक्त बनाना चाहते है तो जरुरत के अनुसार आप नमक का भी इस्तेमाल कर सकते है। उसके बाद आप इसे ठंडा होने दीजिए फिर खांसी में राहत के लिए इसे पी लीजिएं।
  6. त्वचा संक्रमण के लिए भी लाभकारी है तुलसी की पतियां (Basil Leaves are also Beneficial for Skin Infection)- 250 ग्राम तुलसी के पत्तों को बराबर मात्रा मे पीसकर उबाल ले।उसके बाद इसके पत्तों को नींबू के रस में बराबर की मात्रा में मिलाएं। ऐसा करने से आपको दाद, खुजली जैसे संक्रमणों से राहत मिल सकती है । क्योंकि तुलसी में एंटीबायोटिक गुण मौजूद होते है। जो बैक्टीरिया को शरीर में विकास करने से रोकती है।
  7. पथरी में भी लाभकारी है तुलसी की पतियां (Basil Leaves are Also Beneficial in Stones)- अगर आपके गुर्दे में पथरी है तो आपको परेशान होने की जरुरत नही है। बस आपको नियमित तुलसी के साथ शहद मिलाकर उसके अर्क का लगातार सेवन करना है। अगर आप नियमित रुप से इसका सेवन छ:महिने लगातार करते है तो आपको इसका असर दिखना शुरु हो जाएगा। तुलसीमें मौजूद पोषक तत्त्व शरीर में यूरिक एसिड के स्तर को सही रखते हैं जिससेपथरीबनने की समस्या रूक जाती है।
  8. सर्दी-जुकाम के लिए भी लाभकारी है तुलसी की पतियां (Basil Leaves are also Beneficial for Cold and Flu)- अगर आप सर्दी-जुकाम से परेशान है तो आपको डॉक्टर के पास जाने की जरुरत नही है। आप घर बैठे ही इससे निजात पा सकते है। बस आपको तुलसी की पत्तियों को चाय में उबालकर पीना होगा। इसके साथ-साथ हर कुछ मिनट में अदरक के साथ तुलसी के पत्ते को चबाने से भी आपको काफी राहत मिल सकती है।
  9. महिलाओं में पीरियड्समें अनियमितता में तुलसी बीज के फायदे (Benefits of Basil Seed in Irregular Periods in Women)- महिलाओं में पीरियड्स के दौरान कई तरह की समस्याएं होती हैं| इसकी वजह से वे बहुत परेशान रहती हैं| ऐसे में तुलसी के बीज का इस्तेमाल काफी फायदेमंद होता है. पीरियड्स में अनियमितता को दूर करने के लिए तुलसी के पत्तों का नियमित सेवन करना चाहिए।
  10. दस्त या गैस की समस्या में भी है तुलसी के फायदे (The Benefits of Basil are also in the Problem of Diarrhea or Gas)- आज के समय में गैस आप समस्या बन गया है । बच्चा, बूढ़ा या जवान कोई इससे अछूता नही है ,क्योंकि हमारी खान-पान ही ऐसी हो गई है। लेकिन आपको अब परेशान होने की जरुरत नही है। इस घरेलू नुस्खें के उपयोग से अब आप भी राहत पा सकते है। 1 ग्लास पानी में 10-15 तुलसी की पत्तियां डालकर काढ़ा बनाकर और उसमें चुटकी भर नमक डालकर पीने से आपको काफी राहत मिल सकती है ।
  11. लीवर की समस्या में भी फायदेमंद है तुलसी (Basil is also Beneficial in Liver Problem)- अगर आप लीवर की समस्या से परेशान है तो तुलसी की 10-12 पत्तियों को गर्म पानी से धो कर प्रतिदिन सुबह खाने से आपको काफी आराम मिल सकता है। तुलसीमें कई ऐसे गुड़कारी तत्व पाए जाते हैं जो ना सिर्फलीवरको मजबूत बनाते हैं बल्कि थाइरोइड, गैस औरलीवरसे जुड़ी कईसमस्याओं में भीलाभकारी सिद्ध होते हैं।
  12. वजन घटाने में भी तुलसी लाभकारी (Basil is also Beneficial in Weight Loss)- आज के समय में सब फीट औरस्वस्थरहना चहता है जिसके लिए योग, कसरत, जीम का बखूबी इस्तेमाल लोग कर रहे है। लेकिन जब इंसान तनाव में रहता है तो अक्सर उसकी भूख बढ़ जाती है । ऐसे में इंसान अपनी डाइट से ज्यादा खाने लग जाते है।फलस्वरूप वजन तो बढ़ना ही है। क्योंकि तुलसी के प्रयोग से तनाव के लिए जिम्मेदार हार्मोन कार्टिसोल का स्तर कम हो जाता है, इस लिहाज से यह कहा जा सकता है कि तुलसी वजन घटाने में कारगर सिद्ध होती है।
  13. चोट लगजाने पर भी तुलसी का सेवन है फायदेमंद (Consumption of Basil is Beneficial even after Injury)- कहीं भी कटने-छिलने या चोट लग जाने पर तुलसी के पत्तों को फिटकरी के साथ मिलाकर लगाने से घाव जल्दी ठीक हो जाता है। तुलसी में एंटी बैक्टीरियल तत्व होते हैं, जो घाव को पकने नहीं देते।
  14. पेट खराब होने पर भी तुलसी का सेवन है फायदेमंद (Consumption of Basil is Beneficial even if the Stomach is Upset)- अगर आप लूज मोशन से परेशान है तो जीरे के साथ तुलसी के पत्ते को मिलाकर पीस लें। दिनभर में 4 बार सेवन करे,तथा उसके बाद गरम पानी को पीये।ऐसा करने से लाभ अवश्य मिलेगा।
  15. सिर दर्द में भी तुलसी का सेवन है फायदेमंद (Consumption of Basil is also Beneficial in Headache)- अगर आप सिर दर्द को घरेलू नुस्खे से खत्म करना चाहते है तोतुलसी के औषधीय गुण आपको सिर दर्द से छुटकारा दिला सकते हैं। इसके लिए आपको तुलसी के पत्‍तों और चंदन दोनों को मिलाकर पेस्‍ट बनाना है और अपने माथे पर लगाना हैं। इसके अलावा आप तुलसी की पत्तियों को सुखा कर भी इनका सेवन भी कर सकते हैं। ये सूखी पत्तियां श्वास, माइग्रेन और सिर दर्द को कम करने में मदद करती हैं।
  16. कैंसर के उपचार में तुलसी का सेवन है फायदेमंद (Consumption of Basil is Beneficial in the Treatment of Cancer)- अगर आप सिर दर्द को घरेलू नुस्खे से खत्म करना चाहते है तोअध्‍ययनों से पता चलता है कि तुलसी में फाइटो केमिकल्‍स होते हैं, जो प्राकृतिक रूप से कैंसरको रोकने में मदद कर सकते हैं, जिसमें रासायनिक प्रेरित त्‍वचा, यकृत, मौखिक और फेफड़ों के कैंसर शामिल हैं। तुलसी में एंटीऑक्‍सीडेंट गुण होते हैं जो सकारात्‍मक रूप से जीन अभिव्‍यक्तियों को बदलता है। एंटीऑक्‍सीडेंट गुण कैंसर ट्यूमर के विकास को रोकने में मदद करते हैं। पशुओं पर किये गए अध्‍ययनों के अनुसार तुलसी से निकाले गए रस का उपयोग करने पर मृत्‍यु दर में कमी देखी गई। इसका अर्थ यह है कि तुलसी का उपयोग कैंसर के उपचार के लिए पूरक के रूप में किया जा सकता है।

इस तरीके से आप तुलसी का इस्तेमाल करके सिर्फ व सिर्फ घरेलू नुस्खें से आसानी से इसका लाभ पा सकते है, औरस्वास्थ्य संबंधित समस्यायों से निजात पा सकते है ।अगर आप को तुलसी आरक के फायदे लेने हैं तो Roncuvita ke panch tulsi प्रोडक्ट का सेवन करें|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *